कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद से  येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा, बोले- लोगों के लिए है मेरा जीवन

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने फ्लोर टेस्ट का सामना करने से पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने सदन को संबोधित किया और कहा कि वो राज्यभवन जाएंगे और इस्तीफा सौंपेगे। येदियुरप्पा ढाई दिन तक राज्य के मुख्यमंत्री रहे। 17 मई को उन्होंने सीएम पद की शपथ ली थी। राज्यपाल ने बीजेपी को सबसे बड़ा दल होने पर सरकार बनाने को न्योता दिया था और बहुमत साबित करने के लिए 15 दिनों का समय दिया, लेकिन इसके बाद कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट पहुंची, जिसके बाद कोर्ट ने आज ही फ्लोर टेस्ट करवाने का आदेश दिया। बीजेपी के पास जरूरी नंबर नहीं हो पा रहे थे, इसलिए उन्होंने फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफे का ऐलान कर दिया।

फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा को संबोधित करते हुए येदियुरप्पा ने कहा कि मैंने लोगों की समस्याओं को समझने की कोशिक की और उसे समझा। लोगों ने मुझे हमेशा समर्थन दिया है। उन्होंने कहा कि मोदी और शाह ने मुझे मुख्यमंत्री बनाया। हम सबसे बड़ी पार्टी थे, इसलिए राज्यपाल ने हमें बुलाया। हमें लोकतंत्र में पूरा विश्वास है। हम लोगों के लिए एक स्थिर सरकार की उम्मीद कर रहे थे। येदियुरप्पा इस दौरान बोलते हुए भावुक भी हो गए।

उन्होंने कहा कि राज्य में कई समस्याएं हैं, जिनका हम समाधान चाहते थे। हम स्थायी सरकार देना चाहते थे। हमारा ध्यान विकास और किसानों के कल्याण पर था, इसलिए मेरा पहला निर्णय किसानों का कर्ज माफ करना था। उन्होंने कहा कि मैंने पिछले 2 सालों में पूरे राज्य में यात्रा की है और लोगों के चेहरे पर दर्द देखा है। मैं लोगों से मिले प्यार और स्नेह को नहीं भूल सकता।




>