जनता दल (सेक्युलर) नेता एचडी कुमारस्वामी ने बीजेपी पर हॉर्स ट्रेडिंग का लगाया आरोप

राजनीति में खरीद-फरोख्त कोई नई बात नहीं है। अब जबकि कर्नाटक में सरकार बनाने की तिकड़में चल रही हैं क्योंकि किसी के भी पास इतने नंबर नहीं हैं कि अपने दम पर सत्ता कायम कर सके इसलिए बीजेपी पर खरीद-फरोख्त के आरोप लग रहे हैं। जनता दल (सेक्युलर) नेता एचडी कुमारस्वामी ने बीजेपी पर हॉर्स ट्रेडिंग यानी विधायकों को खरीदने का बड़ा आरोप लगाया है। बकौल स्वामी बीजेपी ने जेडी (एस) विधायकों को खरीदने के लिए 100 करोड़ का ऑफर दिया है। स्वामी ने यह आरोप भी लगाया है कि विधायकों को लालच दिया गया कि अगर वह बीजेपी का समर्थन करते हैं तो उन्हें राज्य मंत्रिमंडल में भी जगह दी जाएगी। बीजेपी ने इन आरोपों का खंडन किया है और कहा है कि पार्टी विधायक नहीं खरीदती। कायदे से और प्रत्यक्ष रूप से यह कौन सी पार्टी कहेगी कि वह विधायक खरीदती है या खरीदेगी लेकिन कुमारस्वामी ने कहा है कि अगर बीजेपी ने ऐसी कोशिश की तो उनकी पार्टी बीजेपी के दोगुने विधायक खरीद लेगी।
बीजेपी पर तो केवल आरोप ही है लेकिन कुमारस्वामी ने अपनी मंशा उजागर कर दी है। इसी के साथ यह भी साफ हुआ कि वे या उनकी पार्टी जरूरत पड़ने पर खरीद-फरोख्त कर सकते हैं। जो बातें परदे के पीछे या सियासी सुरंगों में हुआ करती हैं वह बात कुमार खुले में कह रहे हैं। अब इससे ज्यादा शर्म की और क्या बात हो सकती है। बेशक, जेडीएस भी सत्ता पाने के लिए उतनी ही लालायित है जितनी कि बीजेपी। वैसे भी कांग्रेस ने उनकी सदारत में सरकार बनने पर अपने समर्थन का ऐलान कर दिया है।
कांग्रेस के पास इसके अलावा और कोई चारा भी नहीं था। बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी होकर भी छटपटा रही है और जेडीएस सबसे छोटी पार्टी होने के बाद छटपटा उठी है। जिस पार्टी को किंग मेकर माना जा रहा था अब वही किंग बनने के लिए उतावली है। जहां तक बीजेपी की बात है तो वह किसी तरह का उदाहरण नहीं दे सकती। गोवा और पूर्वोत्तर में उसने उसी रास्ते से सरकार बनाई है जिस रास्ते कुमार स्वामी बनाना चाह रहे हैं।



>