BREAKING NEWS -
Search

जनसंख्या नियंत्रण कानून अतिशीध्र बने, संतों का स्वामी यति नरसिंहानंद के आमरण अनशन को समर्थन

डासना, गाजियाबाद,17 नवंबर 18। महाकाली डासना मंदिर, गाजियाबाद में जनसंख्या नियंत्रण कानून अतिशीध्र बनाने की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे अखिल भारतीय संत परिषद के संयोजक स्वामी श्री यति नरसिंहानंद जी महाराज के समर्थन में संतों, समाज सेवियों और आम जन ने बाहुल्यता से जुटना शुरु कर दिया है।
अनशन के आज 17वें दिन अखिल भारतीय संत समिति, उत्तराखंड के अध्यक्ष महामंडलेश्वर गोभक्त स्वामी श्री ईश्वर दास जी महाराज हरिद्वार से अपने शिष्यों के साथ डासना पधारे। स्वामी श्री ईश्वर दास जी ने कहा कि भारत में कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून से बहुत सारी समस्याओं का तुरंत समाधान हो जाएगा। अनियंत्रित बढती जनसंख्या भारत की लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए बहुत बडी समस्या है जिस कारण आतंक, व्याभिचार और जिहाद जैसी क्रूरतापूर्ण गतिविधियों से पूरा राष्ट्र ही नहीं समस्त मानवता संकट में है। जनसंख्या नियंत्रण कानून से इनपर लगाम लग पाएगी। राष्ट्र और संस्कृति के उत्थान के लिए अतिशीघ्र इस कानून का बनना अतिआवश्यक है।
उन्होंने स्वामी जी के अनशन का समर्थन करते हुए कहा कि स्वामी जी का आमरण अनशन सरकार और आम जनता को इस समस्या के प्रति जागरूक करना है । भारत की संस्कृति के पोषक संतों का यह उदघोष सरकार को इस समस्या के प्रति आगाह करना है जिससे सरकार शीध्र जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाकर राष्ट्र और संस्कृति को समय रहते बचा सके।
अनशन पर बैठे स्वामी जी ने कहा कि मेरे जीवन से ज्यादा महत्वपूर्ण मेरा देश, मेरी भारतीय संस्कृति और ऋषि-कृषि संस्कृति वाले वो भोले भाले भारतीय हैं जो गुलामी और अत्याचार के भीषण दौर से त्रस्त थे जो इन चार वर्षों में थोडा कुछ कहने भर की हिम्मत जुटा पाएं हैं। लेकिन एक जिहादी कौम की बढती जनसंख्या भारत, भारतीय संस्कृति और भारत की भोलीभाली जनता को नष्ट करने पर उतारू है यदि इस बढती जनसंख्या को रोका नहीं गया तो भारत को पाकिस्तान जैसे आतंकी देश बनने को कोई नहीं रोक सकता। अतः अतिशीध्र कठोर जनसंख्या नियंत्रण कानून बनना बहुत जरुरी है और सरकार से हमारी यही अपेक्षा भी है।




>