दिल्ली के गाजीपुर में कूड़े के पहाड़ का हिस्सा टूटा, दो लोगों की मौत, पांच लोग बचाए

पूर्वी दिल्‍ली के गाजीपुर के पास कूड़े के पहाड़ का हिस्‍सा ढहने से बड़ा हादसा हो गया. इस हादसे में एक लड़की समेत दो की मौत होने की खबर है. ये लोग हादसे के समय नहर के रास्‍ते से गुजर रहे थे. गाजीपुर स्थित डंपिंग ग्राउंड में शुक्रवार दोपहर करीब दो बजे धमाका हुआ. धमाका इतना तेज था कि कचरे का पहाड़ गिरकर भरभराकर नीचे सड़क पर चल रहे यात्रियों के ऊपर आकर गिर गया. पहाड़ के मलबे में दबने से दो लोगों की मौत हो गई और कई अन्‍य घायल हो गए.

इसके अलावा सड़क पर गुजर रही पांच गाड़ियां भी कोंडली नहर में गिर गई. इसमें एक स्विफ्ट कार, एक टैक्सी,  2 बाइक और एक स्कूटी शामिल है. पुलिस ने हादसे के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई है जिसमें एक लड़की भी शामिल है. घायलों की संख्या की अभी पुष्टि नहीं हो पाई है.

गोताखोरों ने नहर में गिरे पांच लोगों को बचा लिया है. ईस्ट एमसीडी की मेयर नीमा भगत ने बताया कि एमसीडी की टीम मौके पर राहत और बचाव के लिए पहुंच चुकी है. मौके पर बचाव कार्य जारी है. मौके पर से पांच लोगों को बचा लिया गया है.

ईस्ट दिल्ली से सांसद महेश गिरी ने कहा- इसमें कोई संदेह नहीं है कि यह गंभीर चिंता का विषय है, उप राज्यपाल के साथ लैंडफिल स्थानांतरण के बारे में बात की जा चुकी है.  इसके अलावा हादसे में मारे गए लोगो के लिए मुआवे के लिए उन्होंने सहमति दे दी है.

मौके पर राहत और बचाव कार्य जारी है. प्रशासन ने हादसे के तुरंत बाद राहत और बचाव का काम शुरू कर दिया है. फायर बिग्रेड की टीम मौके पर मौजूद है. हादसे के बाद इस रूट से होकर गाजियाबाद तक जाने वाले रास्ते को बंद कर दिया गया है. इंदिरापुरम, वैशाली, वसुंधरा समेत अन्य इलाकों से काफी लोग दिल्ली और नोएडा जाने के लिए इस रास्‍ते का प्रयोग करते हैं.

आपको बता दें कि 1984 में इस कूड़े के इस जगह पर कूड़ा डालना शुरू किया गया था. धीरे-धीरे इस जगह पर कूड़े डालने से यहां पर बड़ी मात्रा में कचरा एकत्रित हो गया. करीब 600 ट्रक रोजाना कूड़ा लेकर गाजीपुर आते हैं. दिल्ली से रोज लगभग 14000 टन कचरा निकाला जाता है. यह पूरा क्षेत्र 70 एकड़ में फैला हुआ है. इस पहाड़ की ऊंचाई करीब 100 फीट है.




>