BREAKING NEWS -
Search

Happy Life Tips मौसम के साथ जिंदगी में ऐसे लाएं सकारात्मक बदलाव

Happy Life Tips आ गई वर्षा ऋतु सुहानी। कहीं रिमझिम फुहारें पड़ रही हैं, कहीं कहीं टिप-टप तो कहीं झमाझम बारिश हो रही है। हर तरफ बरखा का मधुर संगीत सुनाई दे रहा है। साथ ही बरखा की बूंदों से धरती की तपन भी दूर हो रही है, शीतल बयार बह रही है। लेखिका पूनम बर्त्वाल के अनुसार प्रकृति का रूप-रंग निखर उठा है, धरा हरी-भरी हो गई है। पेड़ों की डालियों पर, पत्तों पर ठहरी छोटी-छोटी बरखा की बूंदें, मोतियों सी नजर आती हैं। इंद्रधनुष की छटा भी बरखा के बाद जब नजर आती है, जो हमारे मन को उत्साह-उमंग से भर देती है। ऋतुओं की रानी बरखा का जितना भी वर्णन किया जाए, कम है। इसकी विशेषताएं तो अपार हैं। हां, इस कुछ विशेषताओं को हम अगर अपने व्यवहार में शामिल करें तो जीवन को सकारात्मकता से भर, खुशहाल बना सकते हैं।

व्यवहार में लाएं बरखा-सी शीतलता

नन्ही-नन्ही बारिश की बूंदें जब तपती, सूखी और प्यासी धरती पर पड़ती हैं तो कुछ ही क्षणों में उसकी तपन को दूर कर देती हैं, उसकी महीनों की प्यास को बुझा देती हैं। यह संभव होता है, बरखा के शीतलता के गुण के कारण। बरखा की बूदों सी शीतलता अगर हम अपने व्यवहार में भी शामिल करें तो तपन समान क्रोध के अपने अवगुण को दूर कर सकते हैं। व्यवहार में शीतलता लाना बहुत सरल है। किसी भी विकट परिस्थिति में, अपना आपा न खोएं। उसे संयम से संभालने की कोशिश करें। इस तरह आप क्रोध से बची रहेंगी, आपका मन शांत रहेगा, शीतल रहेगा।

बांटें बारिश की तरह खुशियां

बारिश की बूंदें जब धरती पर गिरती हैं तो धरा के हर कोने को हरा-भरा कर देती हैं। इसके कारण ही साग-सब्जी, फलों और कई तरह की फसलों की अच्छी पैदावार होती है। अन्नदाता किसान की खुशी का पारावार नहीं रहता है, साथ ही हर किसी को भोजन उपलब्ध होता है, जो हर मन को प्रसन्नता से भरता है। सूखे नदी-कुएं पानी से लबा-लब भर जाते हैं जो वर्ष भर जनमानस की, पशु-पक्षियों की प्यास बुझाते हैं। इस तरह बारिश की बूंदें, खुशियों की सौगात बनकर हमारे जीवन में आती हैं। बरखा का उद्देश्य ही सबका भला करना और हर मन को खुशियों से भरना होता है। आप भी बारिश की तरह अपनों के, अनजाने लोगों के जीवन में छोटी-छोटी खुशियों की वजह बनने का प्रयास कर सकती हैं। जब भी किसी के लिए कुछ करने का अवसर मिले तो जरूर करें। ऐसा करने पर सामने वाले को तो खुशी मिलेगी ही, आपके मन को भी सुकून मिलेगा।

 




>