हाई वोल्टेज मुकाबले में IND-PAK की भिड़ंत आज

चैंपियंस ट्रॉफी का सबसे रोमांचक भारत-पाकिस्तान मैच रविवार दोपहर 3 बजे से खेला जाएगा. बर्मिंघम में होने वाले इस मैच को लेकर दोनों टीमें तैयार हैं. तमाम टीमों के बीच भारत इकलौती ऐसी टीम है, जिसने अपने दोनों अभ्यास मैच जीते हैं. पाकिस्तान के खिलाफ भी उसे ही जीत का दावेदार माना जा रहा है. लेकिन चैंपियंस ट्रॉफी में अब तक हुए मुकाबलों में पाकिस्तान का पलड़ा भारी है. ये अकेला ऐसा आईसीसी टूर्नामेंट है, जिसमें पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ जीत दर्ज की है.

दोनों टीमों के बीच चैंपियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट में अब तक 3 मैच हो चुके हैं, जिसमें से 2 पाकिस्तान और 1 भारत ने जीता है. पाकिस्तान ने ये मैच 2004 और 2009 की चैंपियंस ट्रॉफी में जीते. जबकि 2013 के टूर्नामेंट में भारतीय टीम 8 विकेट से जीती थी.

भारत

भारत के पास शिखर धवन, रोहित शर्मा, युवराज सिंह, महेंद्र सिंह धोनी और कप्तान विराट कोहली रूप में मजबूत बल्लेबाजी लाइनअप है. वहीं भारतीय गेंदबाजी की तारीफ शाहिद अफरीदी से लेकर ग्लेन मैक्ग्रा जैसे दिग्गज तक कर चुके हैं. ऐसे में वह हॉट फेवरेट बनी हुई है.

टीम इंडिया की बैटिंग लाइन-अप में गहराई है. मैच जिताने वाले बल्लेबाज और गेंदबाज हैं और जबरदस्त अनुभव है. ये काफी नहीं, तो उनके पास विराट कोहली हैं, जो अपना बेस्ट ऐसे बड़े मौके के लिए बचाकर रखते हैं. जिन्हें पाकिस्तान के खिलाफ उनकी क्षमताओं पर संदेह हो, वे एशिया कप और 2016 के टी 20 वर्ल्ड कप को देख सकते हैं. वहां अकेले दम पर विराट ने विपक्षी को ध्वस्त कर दिया था.

बदल चुके हैं टीम इंडिया के तेज गेंदबाज

टीम इंडिया में कम से कम चार तेज गेंदबाज ऐसे हैं, जो औसतन 140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं. ये गेंदबाज हैं उमेश यादव, मोहम्मद शमी, हार्दिक पंड्या और जसप्रीत बुमराह. भारतीय पेस बैट्री में सिर्फ भुवनेश्वर कुमार 135 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करते हैं. लेकिन भुवनेश्वर स्विंग किंग होने के साथ अच्छी रिवर्स स्विंग भी करते हैं.

भुवी की इस गति पर स्विंग को खेलना बहुत ही मुश्किल होता है. यह बात वह बांग्लादेश के खिलाफ वार्मअप मैच में दिखा चुके हैं. उन्होंने पांच ओवरों में 13 रन देकर 3 विकेट लिए थे. भुवनेश्वर अपनी नपी-तुली गेंदबाजी की वजह से हमेशा ही सुर्खियां बटोरते नजर आते हैं. अभी पिछले दिनों आईपीएल-10 में सर्वाधिक 26 विकेट निकालकर लगातार दूसरे साल पर्पल कैप पाने में सफल रहे थे.

मोहम्मद शमी ने दोनों वार्मअप मैचों में शानदार प्रदर्शन करके दिखा दिया है कि वह अब रंग में लौट चुके हैं और भारतीय अटैक की अगुआई करने को तैयार हैं. शमी, भुवनेश्वर से ज्यादा गति निकालकर गेंद स्विंग और रिवर्स स्विंग कराते हैं, इसलिए कई बार उन्हें खेलना बहुत ही मुश्किल हो जाता है. हार्दिक पंड्या और जसप्रीत बुमराह दोनों ही सामान्य तौर पर 143 किमी प्रति घंटे की गति से गेंदबाजी करते हैं. पंड्या ऑलराउंडर हैं. उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ ताबड़तोड़ अंदाज में 80 रन की पारी खेली, उससे उनके खेलने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं. वहीं बुमराह डेथ ओवरों में बल्लेबाजों पर अंकुश लगाने के विशेषज्ञ हैं. वह अपनी फुल लेंथ यार्करों से बल्लेबाजों को बांधने में सफल रहते हैं.

पाकिस्तान

पाकिस्तान की टीम को इस चैंपियंस ट्रॉफी टूर्नामेंट में अंडरडॉग माना जा सकता है. उन्हें भारतीय बैटिंग ऑर्डर को झकझोरने के लिए अपने गेंदबाजों की जरूरत पड़ेगी. मोहम्मद आमिर, हसन अली और जुनैद खान जैसे गेंदबाज इंग्लैंड के माहौल में पाकिस्तान के लिए ये काम कर सकते हैं. पाकिस्तान के पास स्पिन तिकड़ी है, जिसमें हालिया समय मे सनसनी की तरह आए शादाब खान हैं. उनके साथ अनुभवी इमाद वसीम और मोहम्मद हफीज हैं, जो तेज गेंदबाजों को सहयोग देंगे.

दूसरी तरफ अगर बात करें पाकिस्तान के बैटिंग ऑर्डर की तो उनके पास पावरहिटर्स की कमी है. हालांकि उनके पास अहमद शहजाद , बाबर आजम, मोहम्मद हफीज, शोएब मलिक, और सरफराज खान जैसे बल्लेबाज है जिन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ प्रैक्टिस मैच में बता दिया कि वे बड़े से बड़े लक्ष्य को भी हासिल कर सकते है. बांग्लादेश के खिलाफ पाकिस्तान ने 341 रन के लक्ष्य को भी हासिल कर लिया था .

PAK के पास है धारदार पेस बैटरी

पाकिस्तानी पेस बैटरी की जान मोहम्मद आमिर हैं. वह औसतन 139-140 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से स्विंग गेंदबाजी करने में माहिर है जो उन्हें घातक बना देती है. पाकिस्तान टीम के जुनैद खान एक अलग ही भरोसे में हैं. उन्होंने भारतीय कप्तान विराट कोहली के खिलाफ चार मैच खेले हैं और उन्हें 3 बार आउट करने में सफल रहे हैं. उन्होंने 2012 के पाकिस्तान टीम के भारतीय दौरे पर विराट को 22 गेंदें फेंककर सिर्फ दो रन देकर तीन बार आउट किया था.

जुनैद शायद यह भूल रहे हैं कि पिछले साढ़े चार साल में विराट का कद और कितना विराट हो गया है. इस दौरान विराट ने दुनिया के तमाम दिग्गज गेंदबाजों को पानी पिलाया है. लेकिन इतना तय है कि इस मुकाबले में भारत बेहतर पेस अटैक के साथ उतरकर पाकिस्तान को उसकी ही भाषा में जवाब देने को तैयार है.

क्या कहते हैं आकड़े?

पाकिस्तान ने बर्मिंघम में साल 2004 चैंपियंस ट्रॉफी के मुकाबले में भारत को 3 विकेट से हराया था. इसके साथ बाद 2009 चैंपियंस ट्रॉफी में खेले गए मैच में भी पाकिस्तान फिर से 54 रन से जीत हासिल करने में कामयाब रहा. लेकिन साल 2013 में भारत ने पाकिस्तान को बर्मिंघम में आठ विकेट से शिकस्त देकर बढ़त को 2-1 पर ला दिया. अगर भारत रविवार को ये मैच जीत लेता है तो वह चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान की 2-2 से बराबरी कर लेगा.

संभावित प्लेइंग इलेवन

पाकिस्तान: अहमद शहजाद , अजहर अली, बाबर आजम, मोहम्मद हफीज, शोएब मलिक, सरफराज खान (कप्तान और विकेटकीपर), इमाद वसीम, फहीम अशरफ, मोहम्मद आमिर, जुनैद खान और शादाब खान.

भारत: रोहित शर्मा, शिखर धवन, विराट कोहली (कप्तान), युवराज सिंह, एमएस धोनी (विकेटकीपर), केदार जाधव, हार्दिक पंड्या, रवींद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह.




>