BREAKING NEWS -
Search

भारत-रूस अंतर-सरकारी आयोग की बैठक, द्विपक्षीय व्यापार संबंधों को और मज़बूत बनाने पर बल

रूस यात्रा पर गईं विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रूस के उप प्रधानमंत्री यूरी बोरीसोव के साथ 23वें भारत-रूस अंतर-सरकारी आयोग-प्रौद्योगिकी एवं आर्थिक तालमेल की सह-अध्यक्षता की। बैठक में आपसी हितों के मुद्दों पर सहयोग की समीक्षा के साथ साल 2025 तक दोनों देशों के बीच निवेश लक्ष्य को 50 बिलियन डॉलर तक बढाने पर विचार हुआ।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रूस के उप प्रधानमंत्री यूरी बोरीसोव ने शुक्रवार को 23वें भारत-रूस अंतर-सरकारी आयोग (प्रौद्योगिकी एवं आर्थिक तालमेल) की सह-अध्यक्षता की। बैठक के दौरान दोनो नेताओं ने व्यापार,निवेश, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, संस्कृति तथा आपसी हितों के अन्य मुद्दों के क्षेत्र में द्विपक्षीय तालमेल पर हुई प्रगति की समीक्षा की। बैठक के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय व्यापार संबंधों को और मजबूत बनाने पर बल दिया।

उन्होंवे रुस द्वारा इलैक्ट्रॉनिक वीज़ा की सुविधा की शुरूआत पर खुशी व्यक्त की। इस बैठक में अक्टूबर में होने वाली पहली भारत रूस व्यापार यात्रा पर भी दोनों देश में सहमति हुई। साथ ही भविष्य में दोनो देशों के बीच सहयोग के नए क्षेत्रों के विस्तार की उम्मीद जताई। विदेश मंत्री ने कहा कि अब दोनों देशों के बीच निवेश लक्ष्य 2025 तक 30 अरब बिलियन डॉलर से 50 बिलियन डॉलर तक बढ़ाने पर विचार करना चाहिए।

इससे पहले रुस पहुंचने पर सुषमा स्वराज ने गुरुवार को रूस के विदेश मंत्री सर्गेइ लावरोव से भी मुलाकात की थी।  IRIGC-टेक एक स्थायी निकाय है जो सालाना बैठक कर द्विपक्षीय व्यापार एवं निवेश, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, संस्कृति तथा परस्पर हित के अन्य क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग की वर्तमान गतिविधियों की समीक्षा करता है। विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय सहयोग का जायजा लेने के बाद आयोग संबंधित क्षेत्रों के लिए नीतिगत सिफारिशें और निर्देश देगा। आयोग की पिछली बैठक दिसंबर, 2017 में नयी दिल्ली में हुई थी।




>