BREAKING NEWS -
Search

जाधव वीडियो : भारत ने कहा कि पाकिस्तान के दुष्प्रचार वाले कृत्य की विश्वसनीयता नहीं

भारत ने ‘‘दुष्प्रचार वाले कृत्य’’ के लिए आज पाकिस्तान को लताड़ लगाते हुए कहा कि उसने वीडियो में कुलभूषण जाधव के बयान ‘‘जबरन’’ डलवाए हैं। उसने कहा कि इस्लामाबाद के ऐसे कृत्य की कोई विश्वसनीयता नहीं है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय द्वारा जाधव का वीडियो जारी करने के बाद भारत ने करारा पलटवार किया है। वीडियो में 47 वर्षीय भारतीय नागरिक जाधव भारत से पूछता है कि वह ‘‘झूठ’’ क्यों बोल रहा है कि उसने गुप्तचर एजेंसी के लिए काम नहीं किया।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘‘यह आश्चर्यजनक नहीं है। पाकिस्तान जबरन बयान वाले वीडियो जारी करता है। उन्हें समझना चाहिए कि इस तरह के दुष्प्रचार वाले कृत्य की कोई विश्वसनीयता नहीं है।’’ जाधव ने वीडियो में यह दावा भी किया कि पाकिस्तान सरकार उसका ख्याल रख रही है।

तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए कुमार ने कहा, ‘‘किसी को कब्जे में रखकर उससे अपने ख्याल रखने की बात कहलाना और बंधक बनाने वालों के आरोपों को उससे कहलवाने में कोई विश्वसनीयता नहीं है।’’

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव का एक और वीडियो सामने आया है. पाकिस्तान विदेश मंत्रालय की ओर से गुरुवार को कुलभूषण का वीडियो जारी किया गया है. कुलभूषण ने कहा है कि उसे यहां पर कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाया गया है. आपको बता दें कि बीते 25 दिसंबर को कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी ने इस्लामाबाद पहुंचकर उनसे मुलाकात की थी.

जारी किए गए नए वीडियो में कुलभूषण ने कहा कि मेरी मां मुझे देखकर काफी खुश थी. मैं इसके लिए पाकिस्तानी सरकार का शुक्रिया करना चाहता हूं. कुलभूषण ने वीडियो में कहा कि मैंने अपनी मां से कहा कि यहां पर मुझे नहीं नुकसान नहीं पहुंचाया है, मुझे किसी ने टच नहीं किया. साफ दिख रहा है कि कुलभूषण जाधव ने पाकिस्तान के दबाव में आकर वीडियो में बयानबाजी की है.

कुलभूषण ने कहा कि मैंने अपनी मां और पत्नी की आंखों में डर देखा. वीडियो में जाधव ने कहा कि जो भारतीय उच्चायोग का अधिकारी मेरी मां के साथ आया था, वह उनपर चिल्ला रहा था. कुलभूषण ने बार-बार वीडियो में पाकिस्तान सरकार का शुक्रिया अदा किया.

आपको बता दें कि 25 दिसंबर को कुलभूषण जाधव की मां और पत्नी ने इस्लामाबाद में मुलाकात की थी. पाकिस्तान विदेश मंत्रालय में हुई इस बातचीत में एक शीशे की दीवार के आर-पार मां-बेटे की मुलाकात हुई थी.

मां-पत्नी संग किया था बुरा बर्ताव

पाकिस्तान की ओर से कुलभूषण की मां और पत्नी के साथ बुरा व्यवहार किया गया था. मीटिंग से पहले उनके कपड़े बदलवाए गए, मंगलसूत्र, चूड़ियां उतरवाई गईं. इसके अलावा उनके जूते भी वहां पर जब्त करवा लिए गए, पाकिस्तान ने आरोप लगाया था कि उनके जूतों में कोई चिप लगी हुई है जिसकी जांच चल रही है.

सुषमा ने राज्यसभा में पाकिस्तान को लताड़ा

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस मुद्दे पर राज्यसभा में बयान दिया था. उन्होंने पाकिस्तान को लताड़ लगाते हुए कहा था कि ये खेद का विषय है कि मुलाकात में इस तरह का व्यवहार किया. सुषमा ने कहा कि पाकिस्तान ने इस मुलाकात को प्रोपेगेंडा बनाया. जाधव की मां सिर्फ साड़ी पहनती हैं, उनके भी कपड़े भी बदलवा दिए गए. मीडिया को मां और पत्नी के नजदीक आने दिया गया, जो हमारी शर्तों के खिलाफ था.

मुलाकात से लौटने के बाद मां-पत्नी ने बताया कि कुलभूषण दबाव में हैं. उनके कैद करने वालों ने जो उन्हें बोलने के लिए कहा था जाधव सिर्फ वही बोल रहे थे. पाकिस्तान जाधव की मां-पत्नी के जूतों के साथ कुछ शरारत कर सकता है. इस मीटिंग में सिर्फ मानवाधिकार के नियमों का उल्लंघन ही हुआ है.

पाक ने लगाए संगीन आरोप

पाकिस्तान का दावा है कि भारतीय नौसेना के कमांडर जाधव भारत की प्रमुख खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनलिसिस विंग(रॉ) के लिए काम कर रहे थे. इस्लामाबाद का कहना है कि तीन मार्च 2016 को बलूचिस्तान में कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने उनको अवैध रूप से पाकिस्तान में पकड़ लिया गया था. हालांकि भारत का कहना है कि जाधव एक पूर्व नौसेना अधिकारी हैं और वो रॉ के लिए काम नहीं कर रहे थे.

बता दें कि पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी और आतंकवाद संबंधी आरोपों को लेकर अप्रैल में 47 साल के जाधव को मौत की सजा सुनायी थी जिसके बाद मई में भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का रूख किया था. भारत की याचिका पर अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने अपना अंतिम फैसला सुनाए जाने तक सजा की तामील पर रोक लगा दी है.




>