बिना प्यार के जिंदगी बेमानी है: परिणीति चोपड़ा

परिणीति चोपड़ा लव स्टोरी बेस्ड फिल्म ‘नमस्ते इंग्लैंड’ में नजर आएंगी। यह फिल्म ‘नमस्ते लंदन’ से कितनी अलग है? प्यार को लेकर परिणीति का क्या नजरिया है? ‘

नमस्ते इंग्लैंड’ में काम करते समय अर्जुन कपूर के साथ उनकी कैसी ट्यूनिंग रही? आगे परिणीति कौन सी फिल्में कर रही हैं? क्या वह अब तक के अपने करियर से सैटिस्फाइड हैं?

परिणीति चोपड़ा ने बॉलीवुड में डेब्यू तो फिल्म ‘लेडीज वर्सेज रिकी बहल’ से किया था, लेकिन इस फिल्म में उनका पैरलल लीड था। बतौर लीड एक्ट्रेस करियर की शुरुआत उन्होंने फिल्म ‘इश्कजादे’ से की, इसमें उनके अपोजिट अर्जुन कपूर थे।

दोनों की जोड़ी को दर्शकों ने खूब पसंद किया था। अब छह साल बाद परिणीति-अर्जुन की जोड़ी ‘नमस्ते इंग्लैंड’ में नजर आएगी। अर्जुन के साथ फिर से स्क्रीन शेयर करके परिणीति काफी खुश हैं।

ग्यारह साल पहले फिल्म ‘नमस्ते लंदन’ रिलीज हुई थी, क्या आपकी फिल्म ‘नमस्ते इंग्लैंड’ इसी फिल्म का सीक्वल है? 

मैं जानती हूं कि ‘नमस्ते लंदन’ बहुत हिट फिल्म थी, अक्षय कुमार और कैटरीना कैफ की जोड़ी वाली उस फिल्म की कहानी दर्शकों को पसंद आई थी। लेकिन हमारी फिल्म ‘नमस्ते इग्लैंड’, ‘नमस्ते लंदन’ का सीक्वल नहीं है।

इसकी कहानी बिल्कुल अलग है। हमारी फिल्म की कहानी भी बहुत प्यारी है, बिल्कुल 80-90 के दशक वाली फिल्मों की तरह। फिल्म ‘नमस्ते इंग्लैंड’ में एक्टिंग करके मुझे बहुत मजा आया।

सुना है कि फिल्म में आप प्यार की खातिर इंग्लैंड जाती हैं, असल जिंदगी में आप प्यार के लिए किस हद तक जा सकती हैं? 

मेरे लिए प्यार बहुत मायने रखता है। मेरा मानना है कि बिना प्यार के जिंदगी बेमानी है। मुझे जिस प्यार की तलाश है, वह अभी तक नहीं मिला है। जिस दिन मुझे मेरा प्यार मिल गया, उसके लिए मैं इंग्लैंड तो क्या दुनिया के किसी भी कोने में जा सकती हूं।

अगर प्यार और करियर में से किसी को चुनना हो तो आप किसे चुनेंगी? 

मेरे लिए सबसे पहले परिवार और प्यार है, बाद में सब कुछ है। हम चाहे कितना ही नाम, पैसा और फेम कमा लें। आखिर में हमें खुशी तब ही मिलती है, जब हम अपनों के बीच होते हैं। अगर जिंदगी में परिवार और प्यार ना हो तो सब कुछ बेमानी लगता है।

प्यार में धोखा भी तो मिलता है, आप भी सालों पहले इमोशनली हर्ट हुई थीं। कैसे आपने खुद को संभाला था?

जब हम प्यार में धोखा खाते हैं या इमोशनली हर्ट होते हैं तो अपने आपको संभालना आसान नहीं होता है। लेकिन खुद को संभालना जरूरी है, ऐसा करने पर ही एक मजबूत इंसान बन पाते हैं। ऐसा ही कुछ मेरे साथ भी हुआ है। मेरे बुरे वक्त में मेरे परिवार ने और मेरे दोस्तों ने मेरा बहुत साथ दिया है।

आप छह साल बाद अर्जुन कपूर के साथ फिल्म ‘नमस्ते इंग्लैंड’ कर रही हैं। क्या बदलाव महसूस करती हैं? 

हम दोनों ने ही छह साल के करियर में बहुत अच्छा काम किया है। एक-दूसरे की सफलता को देखकर हमें बहुत खुशी मिलती है। माना छह साल के समय में हमारे आस-पास बहुत कुछ बदला, लेकिन हमारे बीच कुछ नहीं बदला।

अर्जुन और मैं हमेशा टच में रहे। हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं। मैं अर्जुन पर आंख बंद करके  विश्वास कर सकती हूं। वह बिल्कुल क्रिस्टल की तरह क्लीयर है। मैं उससे हर बात शेयर करती हूं, क्योंकि वह सही राय देता है और मेरे सीक्रेट किसी को नहीं बताता है। हमारे बीच खूब झगड़ा भी होता है, लेकिन हम बहुत देर तक रूठे नहीं रहते हैं।

आपने छह साल के अपने करियर में बहुत कम फिल्में की हैं, इसकी क्या वजह है? 

मैं साल में एक फिल्म तो कर ही रही हूं। जैसे कि पिछले साल मेरी फिल्म ‘गोलमाल अगेन’ आई थी। अब फिल्म ‘नमस्ते इंग्लैंड’ आ रही है। इसके अलावा मैं ‘केसरी’ और ‘संदीप और पिंकी फरार’ नाम की फिल्में भी कर रही हूं।

क्या आप अपने अब तक करियर से सैटिस्फाइड हैं? 

अपने अब तक के करियर से खुश हूं। मैंने अपनी एक पहचान बना ली है। लेकिन एक एक्ट्रेस के तौर पर मुझे अभी बहुत आगे जाना है। अब मुझे कुछ ऐसी फिल्में करने की तमन्ना है, जो एकदम हटकर हों और दर्शक मुझे हमेशा याद रखें।

पिछले कुछ सालों में एक्टिंग के साथ-साथ परिणीति ने अपनी फिटनेस पर भी खूब ध्यान दिया है। वह एक एक्ट्रेस होने के नाते फिट रहना कितना जरूरी मानती हैं?

‘आज हर कोई इतना ज्यादा टैलेंटेड है कि अगर आपमें जरा भी कोई माइनस प्वाइंट होगा तो आप पिछड़ जाएंगे।ऐसे में हर एक्टर अपने आपको लेकर, अपनी फिटनेस को लेकर कॉन्शस रहता है।

अगर एक्टर, एक्ट्रेसेस अच्छे नहीं दिखेंगे तो काम मिलना बंद हो जाएगा।’ इन दिनों बॉलीवुड में परिणीति की कजिन सिस्टर प्रियंका चोपड़ा की जल्द शादी करने की खबरें आ रही हैं।

बहन की शादी को लेकर परिणीति की क्या प्लानिंग है?

‘अभी तक ऑफिशियली शादी को लेकर कोई अनाउंसमेंट नहीं हुई है। जहां तक प्रियंका का सवाल है तो पर्सनली मैं अपनी बहन के हर फैसले से खुश हूं। प्रियंका ने अपने अब तक के करियर में बहुत ज्यादा मेहनत की है।

अपने करियर को उस मुकाम पर लाकर खड़ा किया है कि मैं ही नहीं कई लड़कियां उनसे इंस्पायर होती हैं। मैं तो बचपन से ही प्रियंका चोपड़ा जैसी बनना चाहती थी।’




>