BREAKING NEWS -
Search

अमेरिका के बाद भारत में भी #MeToo अभियान जोर पकड़ता आ रहा है नजर

अमेरिका के बाद भारत में भी मी-टू अभियान जोर पकड़ता नजर आ रहा है। करीब एक वर्ष पूर्व अमेरिका में अलग-अलग क्षेत्रों की महिलाओं ने सोशल मीडिया के जरिए उन चर्चित हस्तियों के नाम उजागर करने शुरू किए थे, जिन्होंने उनका यौन और मानसिक उत्पीड़न किया था। ऐसे चेहरों में वहां की कई नामचीन हस्तियां शामिल थी।

मौजूदा राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर भी वहां की कुछ नामचीन महिलाओं ने इसी तरह के गंभीर आरोप लगाए थे। कुछ ने यहां तक कहा कि राष्ट्रपति चुनाव के समय उन्हें मुंह बंद करने के लिए मोटी रकम अदा की गई थी ताकि ट्रंप के राष्ट्रपति बनने की संभावनाओं पर पानी न फिर जाए।

अमेरिका के अलावा यूरोप और दूसरे देशों की फिल्म अभिनेत्रियों, फैशन और ग्लैमर जगत से जुड़ी माडल और अलग-अलग क्षेत्र की महिलाओं ने समय-समय पर कुछ जानी-मानी हस्तियों पर उनका शोषण करने के आरोप लगाए, लेकिन भारत में इस बीच आमतौर पर खामोशी बनी रही।

अक्तूबर के पहले सप्ताह में कुछ महिलाओं ने एक कामेडियन पर आरोप लगाए कि उसने उनसे न्यूड तस्वीरें भेजने को कहा था। यही नहींस अश्लील संदेशों के साथ इस कामेडियन ने अपनी न्यूड तस्वीरें भी उन्हें भेजी।

इसके बाद एक फिल्म अभिनेत्री तनुश्री दत्ता ने जाने-माने अभिनेता नाना पाटेकर पर गंभीर आरोप लगाया कि दस साल पहले एक फिल्म की शूटिंग के दौरान उन्होंने उनके साथ बेहद आपत्तिजनक व्यवहार किया था।

सेट पर सबके सामने नाना ने उनके साथ कई बार गलत तरीके से छेड़छाड़ की। गलत दृश्य फिल्माने की कोशिश की। जब वह नहीं मानी तो एक दल के लोगों को बुलवाकर उनकी गाड़ी पर हमला करवाया।

इस सबके बीच फिल्म के निर्देशक, निर्माता और दूसरे लोग मूकदर्शक बने रहे। फिल्म जगत की बोल्ड अभिनेत्री माने जाने वाली कंगना रणौत ने तनुश्री दत्ता के हौंसले की दाद देते हुए कहा कि इतने साल बाद इस मामले का खुलासा करने पर उनसे सवाल करने के बजाय मीडिया और फिल्म क्षेत्र को उनका साथ देना चाहिए।

कंगना ने अपनी फिल्म क्वीन के निर्देशक विकास बहल पर गंभीर आरोप लगाते हुए उस यूनिट की महिला कर्मचारी के आरोपों की यह कहते हुए पुष्टि की कि विकास जब भी उनसे मिलते थे तो गले लगकर बालों को सूंघते थे और आपत्तिजनक टिप्पणी करते थे। यूनिट की महिला कर्मचारी ने भी विकास पर यौन शोषण का आरोप लगाया था।

इसके बाद अनुराग कश्यप की तरफ से भी सफाई आई। उन्होंने कहा कि पता चलने के बाद उन्होंने विकास बहल की अपने आफिस में एंट्री बैन कर दी थी। वैसे तो मीडिया जगत में भी कुछ खुलासों के बाद अच्छा-खासा हड़कंप मचा हुआ है परंतु इस समय मोदी सरकार में राज्य मंत्री एक पूर्व संपादक पर तीन अलग-अलग महिला पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाकर सनसनी फैला दी है।

कुछ वक्त पहले ठीक इसी तरह के आरोप तरुण तेजपाल पर उनकी एक सहयोगी ने लगाए थे, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। वह अभी तक उस केस का सामना कर रहे हैं। ताजा आरोप टीवी जगत के एक मशहूर अभिनेता आलोक नाथ पर लगा है। आरोप लगाने वाली कोई और नहीं, उन्हीं के एक चर्चित धारावाहिक की महिला निर्देशक हैं।

हालांकि आलोकनाथ ने यह कहकर कि कुछ तो लोग कहेंगे..इस मामले को हल्के में लेने की कोशिश की है परंतु नाना पाटेकर से लेकर आलोक नाथ तक को इन आरोपों पर तथ्यों के साथ जवाब देना ही चाहिए।

अभी तक केवल तनुश्री दत्ता मामले को लेकर पुलिस में गई है। वह भी तब, जब नाना पाटेकर ने वकील के माध्यम से उन्हें कानूनी नोटिस भेजा है। किसी और ने मामले दर्ज नहीं कराए हैं परंतु ये ऐसे मसले हैं, जिन्हें उनके मुकाम तक पहुंचाया जाना जरूरी है।

सच क्या है, यह देश के सामने आना जरूरी है। कोई भी क्षेत्र हो, जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों और नामचीन हस्तियों से समाज यह उम्मीद तो करता ही है कि उनका आचरण सही रहे।

 




>