प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने नोएडा और दक्षिण दिल्‍ली को जोड़ने वाली नई मजेंटा मेट्रो लाइन का उदघाटन किया

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज दिल्‍ली मेट्रो की मेजेंटा लाइन के एक खंड का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्‍होंने एक पट्टिका का अनवारण किया। उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल राम नाईक, मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ, केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी, संस्‍कृति मंत्री डॉक्‍टर महेश शर्मा, शहरी विकास मंत्रालय में सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा और दिल्‍ली मेट्रो के प्रबन्‍ध निदेशक मंगू सिंह मौजूद थे। उद्घाटन के बाद मोदी और अन्‍य गणमान्‍य व्‍यक्तियों ने मेट्रो में सवार होकर बोटैनिकल गार्डन से ओखला पक्षी विहार स्‍टेशन तक सफर किया।

इस लाइन का यह खंड नोएडा के बोटैनिकल गार्डन से दिल्‍ली के कालकाजी मन्दिर को जोड़ेगा। इससे नोएडा और दक्षिण दिल्‍ली के बीच यात्रा में कम समय लगेगा।

प्रधानमंत्री ने नोएडा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि यह समय संपर्क का है और इसके बिना जीवन रूक सा जाता है। उन्होंने कहा कि अभी शुरू हुई यह मेट्रो लाइन न केवल इस पीढ़ी के लिए बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए भी लाभकारी होगी। मोदी ने कहा कि 2022 में जब देश स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहा होगा तो वे चाहेंगे कि हम ऐसे भारत में रह रहे हों, जहां पेट्रोल का आयात कम होता हो। इसके लिए परिवहन के आधुनिक साधनों से हमें युक्त होंगे।

आज का युग ऐसा है कि बिना कनेक्‍टविटी जिंदगी ठहर जाती है। बिना संपर्क बिखरा-बिखरा सा माहौल हो जाता है। ये मेट्रो, ये सिर्फ आज के युग में चलो मेट्रो आ गयी अच्‍छा हुआ, इतना सीमित अर्थ नहीं है। आने वाले सौ साल तक, आने वाली पीढ़ी दर पीढ़ी तक इसका सामान्‍य मानवीय को लाभ मिलने वाला है।

इस वर्ष यह तीसरी मेट्रो लाइन है जिसका प्रधानमंत्री उद्घाटन कर रहे हैं। इससे पहले उन्‍होंने जून में कोच्चि मेट्रो और नवम्‍बर में हैदराबाद मेट्रो का उद्घाटन किया था।

दिल्‍ली मेट्रो की यह नई लाइन इस बात एक और उदाहरण है कि सरकार शहरी परिवहन व्‍यवस्‍था को आधुनिक बना रही है। यह प्रौद्योगिकी केन्‍द्रित अभियान और शहरी जन परिवहन व्‍यवस्‍था को पर्यावरण अनुकूल बनाने के प्रयासों का प्रतीक है। तीव्र परिवहन प्रणाली के जरिए कनेक्‍टिविटी बढ़ाने के उद्देश्‍य से केन्‍द्र सरकार ने नौ मेट्रो परियोजनाएं आरंभ की हैं। पिछले साढे तीन वर्षों के दौरान करीबन एक सौ 65 किलोमीटर लम्‍बे मार्ग पर मेट्रो शुरू की गयी है। एक सौ 40 किलोमीटर से अधिक की पांच नई मेट्रो रेल परियोजनाओं को मंजूर दी गयी है। करीब ढाई सौ किलोमीटर लम्‍बी मेट्रो सेवाएं अगले दो वर्षों में चालू हो जाएंगी।




>