Search

महबूबा से मिले गृह मंत्री राजनाथ सिंह

गृह मंत्री राजनाथ सिंह के जम्मू-कश्मीर के चार दिनों के दौरे को देखते हुए राज्य में अलगाववादियों के हंगामे और बहिष्कार की संभावना को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था को चाक चौबंद रखा गया है।

पुलिस जम्मू एंड कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) प्रमुख यासीन मलिक को शुक्रवार की आधी रात को गिरफ्तार कर चुकी है वहीं अन्य अलगाववादियों को नजरबंद रखा गया है। दिल्ली में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के मुख्यालय के बाहर अलगाववादियों के प्रदर्शन से पहले मलिक को गिरफ्तार किया गया।

वरिष्ठ अलगाववादी नेताओं सैयद अली गिलानी और मीरवाइज उमर फारुख को श्रीनगर में नजरबंद रखा गया है वहीं, यासीन मलिक को आधीरात को मैसूमा में उनके घर से गिरफ्तार किया गया।

इस बीच राजनाथ ने श्रीनगर में राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से मुलाकात की है। राजनाथ ने इस दौरान प्रधानमंत्री के पैकेज के तहत कराए जा रहे विकास कार्यों की समीझा की।

सिंह ने कहा, ‘मैंने अधिकारियों से प्रधानमंत्री डिवेलपमेंट पैकेज को तेजी से पूरा करने का आदेश दिया है। इससे जम्मू-कश्मीर के लोगों को रोजगार पाने में मदद मिलेगी।’

दौरे से पहले सिंह ने कहा था कि वह खुले मन से कश्मीर जा रहे हैं और कश्मीर समस्या के समाधान के लिए किसी से भी मिलने के इच्छुक हैं।

गृह मंत्री अपने चार दिनों की यात्रा के दौरान श्रीनगर, अनंतनाग, जम्मू और राजौरी जाएंगे जहां उनकी मुलाकात नागरिक समाज संगठनों, राजनीतिक एवं सामाजिक संगठनों के लोगों और कारोबारियों होगी।

राजनाथ की सभा और कार्यक्रम में हंगामे की आशंका को देखते हुए प्रशासन ने रैनवाड़ी, खानयार, नौहट्टा, एम.आर.गंज, सफा कदल और मैसूमा इन छह पुलिस थाना क्षेत्रों में प्रतिबंध लगा रखा है।

सिंह की यह यात्रा स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के बाद हो रही है, जिसमें उन्होंने घाटी के लोगों तक पहुंचने की अपील की थी।

मोदी ने कहा था कि कश्मीर समस्या का समाधान गोली और गाली से नहीं होगा। उन्होंने कहा था, ‘कश्मीर समरस्या का समाधान कश्मीरियों को गले लगाने से होगा।’

उन्होंने कहा, ‘मैं वहां खुले दिमाग के साथ जा रहा हूं और मैं उन सभी से मिलूंगा जो मुझसे मिलना चाहते हैं। हम सभी सस्या का समाधान चाहते हैं।’




>