BREAKING NEWS -
Search

ऑयल एंड गैस में 12 फीसदी की गिरावट, निवेशकों के 3.79 लाख करोड़ रुपये का सफाया

अक्टूबर का पहला कारोबारी सप्ताह बाजार के लिए हाहाकारी साबित हुआ है। ऑटो, मेटल, एनर्जी और ऑयल एंड गैस सेगमेंट के शेयरों में आई भारी गिरावट ने बाजार के निवेशकों का 3.79 लाख करोड़ रुपये साफ कर दिए। 21 सितंबर से 5 जुलाई 2018 तक बाजार को कुल 14,10,214 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है।

इसके अलावा विदेशी संस्थागत निवेशकों ने इस कारोबारी सप्ताह के आखिरी दिन मुनाफा वसूली पर जोर देते हुए 3370.14 करोड़ रुपये मार्केट से निकाल लिए। ऑटो, मेटल, एनर्जी और ऑयल एंड गैस के शेयरों में 3 फीसदी से 12 फीसदी तक की भारी गिरावट रही, जबकि मैन्युफैक्चरिंग, पीएसयू और सीपीएसई इंडेक्स में भी 8.30 फीसदी की गिरावट ने निवेशकों के चेहरे की हवाइयां उड़ा दीं। एक साल के कारोबारी इतिहास में पहली बार सेंसेक्स 35 हजार के नीचे 34376 अंक पर क्लोज हुआ है।

शुक्रवार को बैंकेक्स (1 प्रतिशत), टेलिकॉम (2.12 प्रतिशत), कंज्युमर डिस्क्रिशनरी गुड्स एंड सर्विसेज (2.13 प्रतिशत), पॉवर (2.18 प्रतिशत), कैपिटल गुड्स (2.26 प्रतिशत), एफएमसीजी (2.33 प्रतिशत), फाइनेंस (2.38 प्रतिशत), इंडस्ट्रीयल्स (2.66 प्रतिशत), रियल्टी (2.70 प्रतिशत), बेसिक मेटेरियल (3.00 प्रतिशत), ऑटो (3.16 प्रतिशत), मेटल (3.45 प्रतिशत), युटिलिटीज (3.58 प्रतिशत), एनर्जी (8.52 प्रतिशत) और ऑयल एंड गैस (12.68 प्रतिशत) के शेयरों में भारी दबाव रहा, जिससे बाजार धराशाई हो गया।

इसके अलावा इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर इंडेक्स (5.76 प्रतिशत), एसएंडपी बीएसई इंडिया मैन्युफैक्चरिंग इंडेक्स (5.32 प्रतिशत), एस एंड पी बीएसई इंडिया सीपीएसई (8.30 प्रतिशत) और एस एंड पी बीएसई इंडिया पीएसयू (7.06 प्रतिशत) भी भारी गिरावट के साथ लाल निशान में कारोबार कर रहे थे।

शुक्रवार को बाजार ब्लैक फ्राइडे बन करआया और एक ही झटके में 3.79 लाख करोड़ रुपये का सफाया हो गया। बीएसई में मार्केट कैपिटलाइजेशन अब तक के सबसे निचले स्तर 136.60 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

शुक्रवार को बीएसई और एनएसई में विदेशी संस्थागत निवेशकों ने कुल 4,867.87 करोड़ रुपये की खरीददारी की, जबकि 8,238.01 करोड़ रुपये के शेयरों की बिकवाली की। इसी तरह घरेलू संस्थागत निवेशकों ने कुल 6,434.73 करोड़ रुपये की खरीददारी की, जबकि 4,532.66 करोड़ रुपये के शेयरों की बिकवाली की।

 




>