BREAKING NEWS -
Search

तुर्की में आतंकी हमला , 29 की मौत 166 लोग घायल

तुर्की में बड़ा आतंकी हमला हुआ है. तुर्की के शहर इस्तांबुल में 2 बम धमाके हुए हैं. दोनों धमाके एक फुटबॉल स्टेडियम के बाहर कार में हुए. तुर्की के गृह मंत्री सुलेमान सोल्यो के मुताबिक हमला पुलिस को निशाना बनाकर किया गया था.

इस आतंकी हमले में अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 166 लोग घायल हुए हैं. मरने वालों में पुलिस वाले भी शामिल हैं. जिस वक्त धमाका हुआ उस वक्त मैदान में फुटबॉल मैच भी चल रहा था. मैच खत्म होने बाद दर्शक घर लौट रहे थे और इसी दौरान धमाका हो गया. तुर्की के राष्ट्रपति रसिप एर्दोगन ने ट्वीट कर घटना की निंदा की और मरने वालों को श्रद्धांजलि भी दी.

पहला विस्फोट बेसिक्तास स्टेडियम के ठीक बाहर हुआ. दूसरा विस्फोट कुछ ही क्षण बाद हुआ. अधिकारियों का कहना है कि दूसरा विस्फोट एक आत्मघाती हमलावर ने अंजाम दिया. स्टेडियम के पीछे से धुंआ निकलने के बाद पुलिस ने इलाके को घेर लिया और एंबुलेंस घायलों को अस्पतालों ले जाने में जुट गईं. आसपास की इमारतों की खिड़कियों के टूटे हुए शीशे इधर-उधर बिखरे पड़े थे.

इस हमले की तत्काल जिम्मेदारी किसी ने नहीं ली है. इस साल, इस्तांबुल में कई बम हमले हुए हैं, जिनके लिए अधिकारियों ने इस्लामिक स्टेट समूह को दोषी ठहराया है या फिर कुर्द आतंकियों ने उसकी जिम्मेदारी ली है. बीते 15 जुलाई को तख्तापलट के प्रयास के बाद से आपातकाल लगा हुआ है.

सोएलू ने यह बात स्वीकार की कि देश ऐसे ‘कई तत्वों’ के खिलाफ संघर्ष कर रहा है, जो आतंकवाद के खिलाफ उसकी लड़ाई को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं.

तुर्की इस्लामिक स्टेट और पड़ोसी सीरिया एवं इराक में सक्रिय उसके सशस्त्र बलों के खिलाफ लड़ रहे अमेरिकी नेतृत्व वाले गठबंधन में साझेदार है. यह दक्षिणपूर्व में प्रतिबंधित कुर्द आंदोलन के साथ भी एक नए संघर्ष में है.

व्हाइट हाउस राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि वाशिंगटन इस हमले की ‘‘कड़े शब्दों में निंदा’’ करता है.

प्राइस ने एक बयान में कहा, ‘‘हम तुर्की, अमेरिका और वैश्विक शांति एवं स्थिरता को खतरे में डालने वाले सभी आतंकियों के खिलाफ अपने नाटो सहयोगी तुर्की के साथ खड़े हैं.’’ विस्फोट स्थल पर मौजूद एक टैक्सी चालक इस्माइल कोस्कन ने कहा कि विस्फोट के कारण उसका सिर टैक्सीमीटर से जा लगा और उसके कानों में विस्फोट और लोगों के चीखने की आवाजें अब तक गूंज रही हैं.

 




>