BREAKING NEWS -
Search

‘खुले दिमाग’ के साथ कश्मीरियों का दिल जीतने कश्मीर जाएंगे राजनाथ

जम्मू-कश्मीर की चार दिनों की यात्रा के पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि वह ‘खुले दिमाग’ के साथ वहां जा रहे हैं और किसी से भी मिलने में उन्हें परेशानी नहीं होगी।

सिंह ने कहा कि सरकार राज्य की सभी समस्याओं का निपटारा करना चाहती है। सिंह की चार दिवसीय यात्रा शनिवार से शुरू हो रही है।

गृह मंत्री इन चार दिनों के दौरान श्रीनगर, अनंतनाग, जम्मू और राजौरी जाएंगे, जहां वह सिविल सोसाएटी के लोगों, राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक संगठनों के नेताओं से मुलाकात करेंगे।

वहीं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला ने कहा कि उन्हें गृह मंत्री के दौरे से कुछ भी नतीजा हाथ लगने की उम्मीद नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘मुझे बिलकुल भी उम्मीद नहीं है। वह जाएंगे और मिलेंगे जैसा कि वह पहले कर चुके हैं। वह पहले भी सांसदों के प्रतिनिधिमंडल को लेकर कश्मीर जा चुके हैं। उन प्रतिनिधिमंडल की सिफारिशों का क्या हुआ? कुछ नहीं हुआ। मुझे अब कोई उम्मीद नहीं है।’

सिंह की यह यात्रा स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के बाद हो रही है, जिसमें उन्होंने घाटी के लोगों तक पहुंचने की अपील की थी।

मोदी ने कहा था कि कश्मीर समस्या का समाधान गोली और गाली से नहीं होगा। उन्होंने कहा था, ‘कश्मीर समरस्या का समाधान कश्मीरियों को गले लगाने से होगा।’

उन्होंने कहा, ‘मैं वहां खुले दिमाग के साथ जा रहा हूं और मैं उन सभी से मिलूंगा जो मुझसे मिलना चाहते हैं। हम सभी सस्या का समाधान चाहते हैं।’

गृह मंत्रालय की तरफ से जारीबयान में कहा गया है कि गृह मंत्री अपनी कश्मीर यात्रा के दौरान राज्यपाल एन एन वोहरा और मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के साथ मिलेंगे। इसके साथ ही वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 80,000 करोड़ रुपये के विकास पैकेज के तहत किए गए काम की भी समीक्षा करेंगे, जिसकी घोषणा 2015 में कई गई थी।

सिंह इस दौरान घाटी में सुरक्षा-व्यवस्था का भी जायजा लेंगे। माना जा रहा है कि इस दौरान गृह मंत्री कश्मीर समस्या को लेकर छात्रों का विचार जानने के लिए उनसे भी मिल सकते हैं।

 




>